लिखने से ही लिखी जाती है कविता

1 min read
उदयन वाजपेयी की कविताएँ

लिखने से ही लिखी जाती है कविता
प्रेम भी करने की ही चीज़ है
जैसे जंगल सुनने की
किताब डूबने की
मृत्यु इंतज़ार की
जीवन, अपने को चारों ओर से
समेट कर किसी ऐसे बिंदु पर
ला देने की जहाँ नर्तकी की तरह
अपने पाँव के अँगूठे पर कुछ देर
खड़ा रह सके वियोग!

उदयन वाजपेयी
+ posts

उदयन वाजपेयी (जन्म - 1960) हिंदी भाषा के सशक्त हस्ताक्षरों में से हैं. आप इन दिनों 'समास' पत्रिका के संपादक भी हैं. आपकी काव्य कृतियाँ जैसे कुछ वाक्य और पागल गणितज्ञ की कविताएँ अपने पाठकों में ख़ासी लोकप्रिय हैं.

उदयन वाजपेयी (जन्म - 1960) हिंदी भाषा के सशक्त हस्ताक्षरों में से हैं. आप इन दिनों 'समास' पत्रिका के संपादक भी हैं. आपकी काव्य कृतियाँ जैसे कुछ वाक्य और पागल गणितज्ञ की कविताएँ अपने पाठकों में ख़ासी लोकप्रिय हैं.

फूल झरे

फूल झरे जोगिन के द्वार हरी-हरी अँजुरी में भर-भर के प्रीत नई रात करे चाँद की