मेरी कुंठा
रेशम के कीड़ों-सी
ताने-बाने बुनती,
तड़प तड़पकर
बाहर आने को सिर धुनती,
स्वर से
शब्दों से
भावों से
औ’ वीणा से कहती-सुनती,
गर्भवती है
मेरी कुंठा – कुँवारी कुंती!

बाहर आने दूँ
तो लोक-लाज मर्यादा
भीतर रहने दूँ
तो घुटन, सहन से ज़्यादा,
मेरा यह व्यक्तित्व
सिमटने पर आमादा।

दुष्यंत कुमार

दुष्यंत कुमार त्यागी (27 सितंबर 1931 - 30 दिसंबर 1975) हिन्दी कवि , कथाकार और ग़ज़लकार थे। दुष्यंत को हिंदी ग़ज़ल का सशक्त हस्ताक्षर माना जाता है।

दुष्यंत कुमार त्यागी (27 सितंबर 1931 - 30 दिसंबर 1975) हिन्दी कवि , कथाकार और ग़ज़लकार थे। दुष्यंत को हिंदी ग़ज़ल का सशक्त हस्ताक्षर माना जाता है।

नवीनतम

फूल झरे

फूल झरे जोगिन के द्वार हरी-हरी अँजुरी में भर-भर के प्रीत नई रात करे चाँद की

पाप

पाप करना पाप नहीं पाप की बात करना पाप है पाप करने वाले नहीं डरते पाप

तुमने छोड़ा शहर

तुम ने छोड़ा शहर धूप दुबली हुई पीलिया हो गया है अमलतास को बीच में जो