लुत्फ़ वो इश्क़ में पाए हैं

1 min read

लुत्फ़ वो इश्क़ में पाए हैं कि जी जानता है
रंज भी ऐसे उठाए हैं कि जी जानता है

जो ज़माने के सितम हैं वो ज़माना जाने
तू ने दिल इतने सताए हैं कि जी जानता है

तुम नहीं जानते अब तक ये तुम्हारे अंदाज़
वो मिरे दिल में समाए हैं कि जी जानता है

इन्हीं क़दमों ने तुम्हारे इन्हीं क़दमों की क़सम
ख़ाक में इतने मिलाए हैं कि जी जानता है

दोस्ती में तिरी दर-पर्दा हमारे दुश्मन
इस क़दर अपने पराए हैं कि जी जानता है

दाग़ देहलवी

नवाब मिर्ज़ा खान दाग़ देहलवी (25मई 1831 - 17 मार्च 1905) अपने उर्दू ग़ज़लों के लिए जाने वाले शायर थे। वह पुरानी दिल्ली के उर्दू शायरी से ताल्लुक रखते थे।

नवाब मिर्ज़ा खान दाग़ देहलवी (25मई 1831 - 17 मार्च 1905) अपने उर्दू ग़ज़लों के लिए जाने वाले शायर थे। वह पुरानी दिल्ली के उर्दू शायरी से ताल्लुक रखते थे।

नवीनतम

फूल झरे

फूल झरे जोगिन के द्वार हरी-हरी अँजुरी में भर-भर के प्रीत नई रात करे चाँद की

पाप

पाप करना पाप नहीं पाप की बात करना पाप है पाप करने वाले नहीं डरते पाप

तुमने छोड़ा शहर

तुम ने छोड़ा शहर धूप दुबली हुई पीलिया हो गया है अमलतास को बीच में जो