उसने मेरे बेगानेपन को ही

1 min read

उसने मेरे
बेगानेपन को ही
छेड़ दिया

घनी उमस में
कभी न उसने
पंखा हाँका है
लसिया गए भात को
देसी घी से छौंका है
दूध मुँहे पाड़े को
माँ से दूर खदेड़ दिया

उसने
नागफनी के जंगल में
कीकर बोया
ख़ुशबू नहीं, चुभन काँटों की
मंज़िल हो गोया
उभर रहे
स्वेटर का पूरा ऊन
उधेड़ दिया

हरियाली के लिए
पेड़ के
हरे तने काटे
बड़े प्यार से पास बुलाकर
जड़े कई चाँटे
उपजाऊ धरती के
बँटवारे का
मेड़ दिया!

नचिकेता

झारखंड सरकार के पथ निर्माण विभाग में यांत्रिक अभियंता के पद से सेवा निवृत्त और अब स्वतंत्र लेखन करने वाले कवि नचिकेता हिन्दी नवगीत के प्रमुख हस्ताक्षर हैं।

झारखंड सरकार के पथ निर्माण विभाग में यांत्रिक अभियंता के पद से सेवा निवृत्त और अब स्वतंत्र लेखन करने वाले कवि नचिकेता हिन्दी नवगीत के प्रमुख हस्ताक्षर हैं।

नवीनतम

फूल झरे

फूल झरे जोगिन के द्वार हरी-हरी अँजुरी में भर-भर के प्रीत नई रात करे चाँद की

पाप

पाप करना पाप नहीं पाप की बात करना पाप है पाप करने वाले नहीं डरते पाप

तुमने छोड़ा शहर

तुम ने छोड़ा शहर धूप दुबली हुई पीलिया हो गया है अमलतास को बीच में जो