एक कम है

1 min read

अब एक कम है तो एक की आवाज कम है
एक का अस्तित्व एक का प्रकाश
एक का विरोध
एक का उठा हुआ हाथ कम है
उसके मौसमों के वसंत कम हैं

एक रंग के कम होने से
अधूरी रह जाती है एक तस्वीर
एक तारा टूटने से भी वीरान होता है आकाश
एक फूल के कम होने से फैलता है उजाड़ सपनों के बागीचे में
एक के कम होने से कई चीजों पर फर्क पड़ता है एक साथ
उसके होने से हो सकनेवाली हजार बातें
यकायक हो जाती हैं कम
और जो चीजें पहले से ही कम हों
हादसा है उनमें से एक का भी कम हो जाना

मैं इस एक के लिए
मैं इस एक के विश्वास से
लड़ता हूँ हजारों से
खुश रह सकता हूँ कठिन दुःखों के बीच भी

मैं इस एक की परवाह करता हूँ।

कुमार अम्बुज

कुमार अम्बुज (जन्म – 13/04/1957) हिंदी के सुप्रसिद्ध कवि हैं. उन्हें उनके पहले काव्य संग्रह ‘कीवाड़’ के लिए 1992 में भारत भूषण अग्रवाल पुरस्कार से सम्मानित किया जा चुका है.

कुमार अम्बुज (जन्म – 13/04/1957) हिंदी के सुप्रसिद्ध कवि हैं. उन्हें उनके पहले काव्य संग्रह ‘कीवाड़’ के लिए 1992 में भारत भूषण अग्रवाल पुरस्कार से सम्मानित किया जा चुका है.

नवीनतम

फूल झरे

फूल झरे जोगिन के द्वार हरी-हरी अँजुरी में भर-भर के प्रीत नई रात करे चाँद की

पाप

पाप करना पाप नहीं पाप की बात करना पाप है पाप करने वाले नहीं डरते पाप

तुमने छोड़ा शहर

तुम ने छोड़ा शहर धूप दुबली हुई पीलिया हो गया है अमलतास को बीच में जो