बुरी लड़कियाँ, अच्छी लड़कियाँ

1 min read

साँप पालने वाली लड़की साँप काटे से मरती है
गले में खिलौना आला लगा डॉक्टर बनने का स्वांग करती लड़की
ग़लत दवा की चार बूँदें ज़्यादा पीने से
चिट्ठियों में धँसी लड़की उसकी लपट से मर जाती है
और पानी में छप्-छप् करने वाली उसमें डूब कर
जो ज़ोर से उछलती है वह अपने उछलने से मर जाती है
जो गुमसुम रहती है वह गुमसुम होने से
जिसके सिर पर ताज रखा वह उसके वज़न से
जिसके माथे पर ज़हीन लिखा वह उसके ज़हर से
जो लोकल में चढ़ काम पर जाती है वह लोकल में
जो घर में बैठ भिंडी काटती है वह घर में ही
दुनिया में खुलने वाली सुरंग में घुसती है जो
वह दुनिया में पहुँचने से पहले ही मर जाती है
बुरी लड़कियाँ मर कर नर्क में जाती हैं
और अच्छी लड़कियाँ भी स्वर्ग नहीं जातीं

गीत चतुर्वेदी

गीत चतुर्वेदी (जन्म - 1977) की पहचान हिंदी साहित्य में चर्चित उपन्यासकार, लघु कथा लेखक एवं कवि के रूप में है. आपको अवधी लेखक के रूप में भी जाना जाता है. आपको भारत भूषण अग्रवाल सम्मान से भी सम्मानित किया जा चुका है.

गीत चतुर्वेदी (जन्म - 1977) की पहचान हिंदी साहित्य में चर्चित उपन्यासकार, लघु कथा लेखक एवं कवि के रूप में है. आपको अवधी लेखक के रूप में भी जाना जाता है. आपको भारत भूषण अग्रवाल सम्मान से भी सम्मानित किया जा चुका है.

नवीनतम

फूल झरे

फूल झरे जोगिन के द्वार हरी-हरी अँजुरी में भर-भर के प्रीत नई रात करे चाँद की

पाप

पाप करना पाप नहीं पाप की बात करना पाप है पाप करने वाले नहीं डरते पाप

तुमने छोड़ा शहर

तुम ने छोड़ा शहर धूप दुबली हुई पीलिया हो गया है अमलतास को बीच में जो