अक्सर एक व्यथा

1 min read

अक्सर एक गन्ध
मेरे पास से गुज़र जाती है,
अक्सर एक नदी
मेरे सामने भर जाती है,
अक्सर एक नाव
आकर तट से टकराती है,
अक्सर एक लीक
दूर पार से बुलाती है ।
मैं जहाँ होता हूँ
वहीं पर बैठ जाता हूँ,
अक्सर एक प्रतिमा
धूल में बन जाती है ।

अक्सर चाँद जेब में
पड़ा हुआ मिलता है,
सूरज को गिलहरी
पेड़ पर बैठी खाती है,
अक्सर दुनिया
मटर का दाना हो जाती है,
एक हथेली पर
पूरी बस जाती है ।
मैं जहाँ होता हूँ
वहाँ से उठ जाता हूँ,
अक्सर रात चींटी-सी
रेंगती हुई आती है ।

अक्सर एक हँसी
ठंडी हवा-सी चलती है,
अक्सर एक दृष्टि
कनटोप-सा लगाती है,
अक्सर एक बात
पर्वत-सी खड़ी होती है,
अक्सर एक ख़ामोशी
मुझे कपड़े पहनाती है ।
मैं जहाँ होता हूँ
वहाँ से चल पड़ता हूँ,
अक्सर एक व्यथा
यात्रा बन जाती है ।

सर्वेश्वर दयाल सक्सेना

सर्वेश्वर दयाल सक्सेना (15/09/1927 – 24/09/1983) हिंदी के प्रसिद्ध लेखक, कवि, स्तंभकार और नाटककार के रूप में मान्य रहे. वह पहली बार प्रकाशित ‘तार सप्तक’ के सात कवियों में से एक थे जो प्रयोगवाद युग की शुरुआत करता है और कालांतर में ‘नयी कविता आन्दोलन’ बनता है.

सर्वेश्वर दयाल सक्सेना (15/09/1927 – 24/09/1983) हिंदी के प्रसिद्ध लेखक, कवि, स्तंभकार और नाटककार के रूप में मान्य रहे. वह पहली बार प्रकाशित ‘तार सप्तक’ के सात कवियों में से एक थे जो प्रयोगवाद युग की शुरुआत करता है और कालांतर में ‘नयी कविता आन्दोलन’ बनता है.

नवीनतम

फूल झरे

फूल झरे जोगिन के द्वार हरी-हरी अँजुरी में भर-भर के प्रीत नई रात करे चाँद की

पाप

पाप करना पाप नहीं पाप की बात करना पाप है पाप करने वाले नहीं डरते पाप

तुमने छोड़ा शहर

तुम ने छोड़ा शहर धूप दुबली हुई पीलिया हो गया है अमलतास को बीच में जो