कंठ का उपवास

कितने नामों को छूते हो जिह्वा की नोंक से इस तरह कि मुँह भर जाता हो छालों से कितने नामों को सहलाते हो उँगलियों की थाप से यूँ कि पोरों से छूटता

More

सबसे शांत स्त्रियाँ

सबसे शांत स्त्रियाँ अगले जन्म में बिल्लियाँ होंगी वे दबे पाँव आकर टुकुर-टुकुर देखेंगी तुम्हारा उधड़ा जीवन एक नर्म धमक के साथ कूद जाएँगी वे तुम्हारी नींद में ख़लल बनकर जब तुम

More

थी

चिड़िया थी उड़ा दी गई बेटी थी समझा दी गई फिर कोई न लौटा मुंडेर पर सूख गया दाना आँगन के पैर से खोल ले गया पाज़ेब कोई

More

वक़्त

वक़्त को गुज़रते देख रहा हूँ क्या पाया, क्या खोया फ़ैसले सही या ग़लत सही वक़्त पर या देरी से इसी जद्दोजेहद में काश ऐसे होता, काश वैसे क्या ठहर जाना इतना

More

नुमाइश के लिए गुलकारियाँ दोनों तरफ़ से हैं

नुमाइश के लिए गुलकारियाँ दोनों तरफ़ से हैं लड़ाई की मगर तैयारियाँ दोनों तरफ़ से हैं मुलाक़ातों पे हँसते, बोलते हैं, मुस्कराते हैं तबीयत में मगर बेज़ारियाँ दोनों तरफ़ से हैं खुले

More

मेरी उमरा बीती जाए

सईउ नी मेरे गल लग रोवो नी मेरी उमरा बीती जाए उमरा दा रंग कच्चा पीला निस दिन फिट्टदा जाए सईउ नी मेरे गल लग्ग रोवो नी मेरी उमर बीती जाए ।

More

ज़िलाधीश

तुम एक पिछड़े हुए वक़्ता हो तुम एक ऐसे विरोध की भाषा में बोलते हो जैसे राजाओं का विरोध कर रहे हो एक ऐसे समय की भाषा जब संसद का जन्म नहीं

More

प्रेम इंटरनेट पर

शास्त्रीय प्रेमियों की तरह मनोयोगपूर्वक दबा नहीं सकता वह मेरा सर, गूँथ नहीं सकता मेरी चोटी, मटके में पानी भी भरवा नहीं सकता, हाँ, मल नहीं सकता भेंगरिया के पत्ते मेरी बिवाइयों

More

हम जिएँ न जिएँ दोस्त

हम जिएँ न जिएँ दोस्त तुम जियो एक नौजवान की तरह, खेत में झूम रहे धान की तरह, मौत को मार रहे बान की तरह। हम जिएँ न जिएँ दोस्त तुम जियो

More

फटा क्षण

एक फटे हुए क्षण में जूता सिलाने मैं चला सड़क चौड़ी थी पाँव पतले नंबर तीन वाले पेड़ सिकुड़ा खड़ा बूढ़ा बैठा जहाँ दिमाग़ में कुछ आता न था कमरा खुला दरियाँ

More
1 3 4 5 6 7 68