मंज़िल पे न पहुँचे उसे रस्ता नहीं कहते

1 min read

मंज़िल पे पहुँचे उसे रस्ता नहीं कहते
दो चार क़दम चलने को चलना नहीं कहते

इक हम हैं कि ग़ैरों को भी कह देते हैं अपना
इक तुम हो कि अपनों को भी अपना नहीं कहते

कम-हिम्मती ख़तरा है समुंदर के सफ़र में
तूफ़ान को हम दोस्तो ख़तरा नहीं कहते

बन जाए अगर बात तो सब कहते हैं क्या क्या
और बात बिगड़ जाए तो क्या क्या नहीं कहते

नवाज़ देवबंदी

नवाज़ देवबंदी उर्दू ग़ज़ल के बड़े व मशहूर शायरों में से एक हैं। आपकी कई ग़ज़लों को जगजीत सिंह ने अपनी आवाज़ दी है।

नवाज़ देवबंदी उर्दू ग़ज़ल के बड़े व मशहूर शायरों में से एक हैं। आपकी कई ग़ज़लों को जगजीत सिंह ने अपनी आवाज़ दी है।

नवीनतम

फूल झरे

फूल झरे जोगिन के द्वार हरी-हरी अँजुरी में भर-भर के प्रीत नई रात करे चाँद की

पाप

पाप करना पाप नहीं पाप की बात करना पाप है पाप करने वाले नहीं डरते पाप

तुमने छोड़ा शहर

तुम ने छोड़ा शहर धूप दुबली हुई पीलिया हो गया है अमलतास को बीच में जो