उत्तर आधुनिक आलोचक

1 min read

जब मैंने
भूख को भूख कहा
प्यार को प्यार कहा
तो उन्हें बुरा लगा

जब मैंने
पक्षी को पक्षी कहा
आकाश को आकाश कहा
वृक्ष को वृक्ष
और शब्द को शब्द कहा
तो उन्हें बुरा लगा

परन्तु जब मैंने
कविता के स्थान पर
अकविता लिखी
औरत को
सिर्फ़ योनि बताया
रोटी के टुकड़े को
चांद लिखा
स्याह रंग को
लिखा गुलाबी
काले कव्वे को
लिखा मुर्गाबी

तो वे बोले-
वाह ! भई वाह !!
क्या कविता है
भई वाह !!

अमरजीत कौंके

डा.अमरजीत कौंके (जन्म: अगस्त 1964), पंजाबी और हिंदी कवि, अनुवादक और पंजाबी की प्रतिष्ठित साहित्यिक पत्रिका " प्रतिमान " के संपादक हैं। साहित्य अकादमी, दिल्ली की ओर से वर्ष 2016 के लिए अनुवाद पुरस्कार से सम्मानित हैं ।

डा.अमरजीत कौंके (जन्म: अगस्त 1964), पंजाबी और हिंदी कवि, अनुवादक और पंजाबी की प्रतिष्ठित साहित्यिक पत्रिका " प्रतिमान " के संपादक हैं। साहित्य अकादमी, दिल्ली की ओर से वर्ष 2016 के लिए अनुवाद पुरस्कार से सम्मानित हैं ।

नवीनतम

फूल झरे

फूल झरे जोगिन के द्वार हरी-हरी अँजुरी में भर-भर के प्रीत नई रात करे चाँद की

पाप

पाप करना पाप नहीं पाप की बात करना पाप है पाप करने वाले नहीं डरते पाप

तुमने छोड़ा शहर

तुम ने छोड़ा शहर धूप दुबली हुई पीलिया हो गया है अमलतास को बीच में जो