इतना सहज नहीं है विश्व

1 min read

इतना सहज नहीं है विश्व
कि झरने झरते रहें
पहाड़ कभी झुकें ही नहीं

नदी आए और कहे
कि मैं हमेशा बहूँगी तुम्हारे साथ

शहर के क़ानून
तुम्हारे मुताबिक़
मानवीय हो जाएँ
और ख़ुशियों के इंतिज़ार में
तुम्हारी उम्र न ढले

समय की अचूक धार पर रखा
तुम्हारा कलेजा
दो-टूक न हो
तुम रोते रहो अँधेरों में
और रोशनी की कोई किरण
तुम्हें मिल जाए

कभी दुखे ही नहीं
इतने पुख़्ता नहीं हैं विश्वास भी!

पंकज चतुर्वेदी

पंकज चतुर्वेदी (जन्म १९७१) भारतभूषम अग्रवाल पुरस्कार से सम्मानित कवि एवं आलोचक हैं। आत्मकथा की संस्कृति इनकी सर्वप्रमुख आलोचना पुस्तक है।

पंकज चतुर्वेदी (जन्म १९७१) भारतभूषम अग्रवाल पुरस्कार से सम्मानित कवि एवं आलोचक हैं। आत्मकथा की संस्कृति इनकी सर्वप्रमुख आलोचना पुस्तक है।

नवीनतम

फूल झरे

फूल झरे जोगिन के द्वार हरी-हरी अँजुरी में भर-भर के प्रीत नई रात करे चाँद की

पाप

पाप करना पाप नहीं पाप की बात करना पाप है पाप करने वाले नहीं डरते पाप

तुमने छोड़ा शहर

तुम ने छोड़ा शहर धूप दुबली हुई पीलिया हो गया है अमलतास को बीच में जो