हस्ती अपनी हबाब की सी है

1 min read

हस्ती अपनी हबाब की सी है
ये नुमाइश सराब की सी है

नाज़ुकी उसके लब की क्या कहिए
पंखुड़ी इक गुलाब की सी है

बार-बार उस के दर पे जाता हूँ
हालत अब इज्तेराब की सी है

मैं जो बोला कहा कि ये आवाज़
उसी ख़ाना ख़राब की सी है

‘मीर’ उन नीमबाज़ आँखों में
सारी मस्ती शराब की सी है

मीर तकी 'मीर'

ख़ुदा-ए-सुखन मोहम्मद तकी उर्फ मीर तकी 'मीर' (1723 - 1810) उर्दू एवं फ़ारसी भाषा के महान शायर थे। मीर को उर्दू के उस प्रचलन के लिए याद किया जाता है जिसमें फ़ारसी और हिन्दुस्तानी के शब्दों का अच्छा मिश्रण और सामंजस्य हो।

ख़ुदा-ए-सुखन मोहम्मद तकी उर्फ मीर तकी 'मीर' (1723 - 1810) उर्दू एवं फ़ारसी भाषा के महान शायर थे। मीर को उर्दू के उस प्रचलन के लिए याद किया जाता है जिसमें फ़ारसी और हिन्दुस्तानी के शब्दों का अच्छा मिश्रण और सामंजस्य हो।

नवीनतम

फूल झरे

फूल झरे जोगिन के द्वार हरी-हरी अँजुरी में भर-भर के प्रीत नई रात करे चाँद की

पाप

पाप करना पाप नहीं पाप की बात करना पाप है पाप करने वाले नहीं डरते पाप

तुमने छोड़ा शहर

तुम ने छोड़ा शहर धूप दुबली हुई पीलिया हो गया है अमलतास को बीच में जो