स्त्री के बारे में

1 min read

किसी अँधेरे कमरे में
सीलन भरे कोने की
ठंडी दीवार से बात करते हुए
जो स्त्री रो रही है
क्या कोई उस स्त्री के बारे में जानता है?

जो उसके बारे में नहीं जानता
वह अपनी माँ के बारे में क्या जानता है
और पत्नी के बारे में

वह शायद ही जानता है
अपनी बहिन और बेटी के बारे में

जो एकांत में बिलखती स्त्री के बारे में
कुछ नहीं जानता
वह धरती के बारे में क्या जानता है?

कैलाश मनहर

कैलाश मनहर जयपुर के प्रतिष्ठित कवियों में से हैं. आपसे manhar.kailash@gmail.com पे बात की जा सकती है.

कैलाश मनहर जयपुर के प्रतिष्ठित कवियों में से हैं. आपसे manhar.kailash@gmail.com पे बात की जा सकती है.

नवीनतम

फूल झरे

फूल झरे जोगिन के द्वार हरी-हरी अँजुरी में भर-भर के प्रीत नई रात करे चाँद की

पाप

पाप करना पाप नहीं पाप की बात करना पाप है पाप करने वाले नहीं डरते पाप

तुमने छोड़ा शहर

तुम ने छोड़ा शहर धूप दुबली हुई पीलिया हो गया है अमलतास को बीच में जो