संध्या के संग लौट आना तुम

1 min read

जाओ, पर संध्‍या के संग लौट आना तुम,
चाँद की किरन निहारते न बीत जाय रात।

कैसे बतलाऊँ, इस अँधियारी कुटिया में
कितना सूनापन है,
कैसे समझाऊँ, इन हलकी-सी साँसों का
कितना भारी मन है,
कौन सहारा देगा दर्द-दाह में बोलो?
जाओ, पर आँसू के संग लौट आना तुम,
याद के चरन पखारते न बीत जाय रात।

हर न सकी मेरे हारे तन की तपन कभी
घन की ठंडी छाया,
काँटों के हार मुझे पहनाकर चली गई
मधुऋतु वाली माया,
जी न सकेगा जीवन बिंधे-बिंधे अंगों में,
जाओ, पर पतझर के संग लौट आना तुम,
शूल की चुभन दुलारते न बीत जाय रात।

धूल भरे मौसम में बज न सकेगी कल तक
गीतों पर शहनाई,
दुप‍हरिया बीत चली, रह न सकेगी कल तक
बालों में कजराई,
देर नहीं करना तुम गिनी-चुनी घड़ियाँ हैं
जाओ पर सपनों के संग लौट आना तुम,
भीगते नयन उघारते न बीत जाय रात।

मेरी डगमग नैया टूटते किनारों से
दुख ने ही बाँधी है,
मेरी आशावादी नगरी की सीमा पर
आज चढ़ी आँधी है,
बह न जाए जीवन का आँचल इन लहरों में,
जाओ, पर पुरवा के संग लौट आना तुम,
सेज की शिकन सँवारते न बीत जाय रात।

सोम ठाकुर

सोम ठाकुर (जन्म - 1934) हिन्दी के कवि एवं नवगीतकार हैं। इनके उल्लेखनीय योगदान के लिए इन्हें 2006 में 'यशभारती सम्मान' और वर्ष 2009 में दुष्यंत कुमार अलंकरण प्रदान किया गया।

सोम ठाकुर (जन्म - 1934) हिन्दी के कवि एवं नवगीतकार हैं। इनके उल्लेखनीय योगदान के लिए इन्हें 2006 में 'यशभारती सम्मान' और वर्ष 2009 में दुष्यंत कुमार अलंकरण प्रदान किया गया।

नवीनतम

फूल झरे

फूल झरे जोगिन के द्वार हरी-हरी अँजुरी में भर-भर के प्रीत नई रात करे चाँद की

पाप

पाप करना पाप नहीं पाप की बात करना पाप है पाप करने वाले नहीं डरते पाप

तुमने छोड़ा शहर

तुम ने छोड़ा शहर धूप दुबली हुई पीलिया हो गया है अमलतास को बीच में जो