जहाँ तुम नहीं थे

1 min read

तुम नहीं थे
एक ख़ालीपन था
गहरे पग-चिह्न लिए
दूर तक रेत थी
और कुछ भी नहीं था

जहाँ मैं थी
वहाँ मैं नहीं थी
बची हुई नमी लिए
लुप्त होती एक नदी थी
और कुछ भी नहीं था

जहाँ हम थे
वहाँ ‘कुछ नहीं’ के शोर के भीतर
नदी, पेड़, फूल
और
चिड़ियों की भाषा में
था
अवगुंठित प्रेम!

सौम्या सुमन

सौम्या सुमन (जन्म - 21 फ़रवरी), मूलतः पटना से हैं. आप  मौज़ूदा समय की समर्थ व सशक्त आवाज़ों में से एक हैं. आपकी रचनायें समय-समय पे देश के विभिन्न पत्र- पत्रिकाओं पे प्रकाशित होती रहती हैं. आपका पहला कविता संग्रह, नदी चुप है, इन दिनों अपने पाठकों के बीच है. आपसे sumansinha212@gmail.com पे बात की जा सकती है.

सौम्या सुमन (जन्म - 21 फ़रवरी), मूलतः पटना से हैं. आप  मौज़ूदा समय की समर्थ व सशक्त आवाज़ों में से एक हैं. आपकी रचनायें समय-समय पे देश के विभिन्न पत्र- पत्रिकाओं पे प्रकाशित होती रहती हैं. आपका पहला कविता संग्रह, नदी चुप है, इन दिनों अपने पाठकों के बीच है. आपसे sumansinha212@gmail.com पे बात की जा सकती है.

नवीनतम

फूल झरे

फूल झरे जोगिन के द्वार हरी-हरी अँजुरी में भर-भर के प्रीत नई रात करे चाँद की

पाप

पाप करना पाप नहीं पाप की बात करना पाप है पाप करने वाले नहीं डरते पाप

तुमने छोड़ा शहर

तुम ने छोड़ा शहर धूप दुबली हुई पीलिया हो गया है अमलतास को बीच में जो