रात ढलने के बाद क्या होगा

1 min read
सरवत हुसैन

रात ढलने के बाद क्या होगा
दिन निकलने के बाद क्या होगा

सोचता हूँ कि उस से बच निकलूँ
बच निकलने के बाद क्या होगा

ख़्वाब टूटा तो गिर पड़े तारे
आँख मलने के बाद क्या होगा

रक़्स में होगी एक परछाई
दीप जलने के बाद क्या होगा

दश्त छोड़ा तो क्या मिला ‘सरवत’
घर बदलने के बाद क्या होगा

सरवत हुसैन

सरवत हुसैन (1949-1994) उर्दू शायरी के बड़े नामों में से एक थे। आपका पहला कविता-संग्रह ‘आधे सय्यारे पर’ 1987 में लाहौर से प्रकाशित हुआ। दूसरा संग्रह ‘ख़ाकदान’ देहांत के साल भर बाद और तीसरा ‘एक कटोरा पानी’ 2012 में सामने आया। 2015 में उनका कविता-समग्र कराची से प्रकाशित हुआ।

सरवत हुसैन (1949-1994) उर्दू शायरी के बड़े नामों में से एक थे। आपका पहला कविता-संग्रह ‘आधे सय्यारे पर’ 1987 में लाहौर से प्रकाशित हुआ। दूसरा संग्रह ‘ख़ाकदान’ देहांत के साल भर बाद और तीसरा ‘एक कटोरा पानी’ 2012 में सामने आया। 2015 में उनका कविता-समग्र कराची से प्रकाशित हुआ।

नवीनतम

फूल झरे

फूल झरे जोगिन के द्वार हरी-हरी अँजुरी में भर-भर के प्रीत नई रात करे चाँद की

पाप

पाप करना पाप नहीं पाप की बात करना पाप है पाप करने वाले नहीं डरते पाप

तुमने छोड़ा शहर

तुम ने छोड़ा शहर धूप दुबली हुई पीलिया हो गया है अमलतास को बीच में जो