मेरे ही लहू पर गुज़र-औक़ात करो हो

1 min read
ग़ज़ल : मेरे ही लहू पर गुज़र-औक़ात करो हो

मेरे ही लहू पर गुज़र-औक़ात करो हो
मुझ से ही अमीरों की तरह बात करो हो

दिन एक सितम एक सितम रात करो हो
वो दोस्त हो दुश्मन को भी तुम मात करो हो

हम ख़ाक-नशीं तुम सुख़न-आरा-ए-सर-ए-बाम
पास के मिलो दूर से क्या बात करो हो

हम को जो मिला है वो तुम्हीं से तो मिला है
हम और भुला दें तुम्हें क्या बात करो हो

यूँ तो कभी मुँह फेर के देखो भी नहीं हो
जब वक़्त पड़े है तो मुदारात करो हो

दामन पे कोई छींट ख़ंजर पे कोई दाग़
तुम क़त्ल करो हो कि करामात करो हो

बकने भी दो ‘आजिज़’ को जो बोले है बके है
दीवाना है दीवाने से क्या बात करो हो

कलीम आजिज़
+ posts

कलीम आजिज़ (जन्म : १९२६) उर्दू के शायर और शिक्षाविद थे।उन्हें भारत सरकार द्वारा पद्मश्री से सम्मानित किया जा चुका है। उनकी प्रसिद्धि तुम कत़्ल करो हो कि करामात करो हो जैसी गज़लों के कारण रही है।

कलीम आजिज़ (जन्म : १९२६) उर्दू के शायर और शिक्षाविद थे।उन्हें भारत सरकार द्वारा पद्मश्री से सम्मानित किया जा चुका है। उनकी प्रसिद्धि तुम कत़्ल करो हो कि करामात करो हो जैसी गज़लों के कारण रही है।

फूल झरे

फूल झरे जोगिन के द्वार हरी-हरी अँजुरी में भर-भर के प्रीत नई रात करे चाँद की

पाप

पाप करना पाप नहीं पाप की बात करना पाप है पाप करने वाले नहीं डरते पाप

तुमने छोड़ा शहर

तुम ने छोड़ा शहर धूप दुबली हुई पीलिया हो गया है अमलतास को बीच में जो