ठाकुर का कुआँ

1 min read
चूल्हा मिट्टी का
मिट्टी तालाब की
तालाब ठाकुर का

भूख रोटी की
रोटी बाजरे की
बाजरा खेत का
खेत ठाकुर का

बैल ठाकुर का
हल ठाकुर का
हल की मूठ पर हथेली अपनी
फसल ठाकुर की

कुआँ ठाकुर का
पानी ठाकुर का
खेत-खलिहान ठाकुर के
गली-मुहल्ले ठाकुर के

फिर अपना क्या?
गांव?
शहर?
देश?
ओमप्रकाश वाल्मीकि

ओमप्रकाश वाल्मीकि (30/06/1950 – 17/11/2013) दलित साहित्य के प्रतिनिधि रचनाकारों में से एक थे. हिंदी में दलित साहित्य के विकास में आपकी महत्वपूर्ण भूमिका रही.

नवीनतम

फूल झरे

फूल झरे जोगिन के द्वार हरी-हरी अँजुरी में भर-भर के प्रीत नई रात करे चाँद की

पाप

पाप करना पाप नहीं पाप की बात करना पाप है पाप करने वाले नहीं डरते पाप

तुमने छोड़ा शहर

तुम ने छोड़ा शहर धूप दुबली हुई पीलिया हो गया है अमलतास को बीच में जो