एक नज़्म इजाज़तों के लिए

1 min read

तुम मुझे पहन सकते हो
कि मैं ने अपने आप को
धुले हुए कपड़े की तरह
कई दफ़अ’ निचोड़ा है
कई दफ़अ’ सुखाया है
तुम मुझे चबा सकते हो
कि मैं चूसने वाली गोली की तरह
अपनी मिठास की तह घुला चुकी हूँ
तुम मुझे रुला सकते हो
कि मैं ने अपने आप को क़त्ल कर के
अपने ख़ून को पानी पानी कर के
आँखों में झील बना ली है
तुम मुझे भून सकते हो
कि मेरी बोटी बोटी
तड़प तड़प कर
ज़िंदगी की हर साँस को
अलविदा’अ कह चुकी है
तुम मुझे मसल सकते हो
कि रोटी सूखने से पहले
ख़स्ता हो कर भुर्भुरी हो जाती है
तुम मुझे ता’वीज़ की तरह
घोल कर पी जाओ
तो मैं कलीसाओं में बजती घंटियों में
इसी तरह तुलूअ’ होती रहूँगी
जैसे गुल-ए-आफ़्ताब

किश्वर नाहिद

किश्वर नाहिद (जन्म 1940) पाकिस्तान से एक नारीवादी उर्दू कवि है। उसने कविता की कई किताबें लिखी हैं। उसे उर्दू साहित्य में अपने साहित्यिक योगदान के लिए सितारा-ए-इम्तियाज के सहित कई पुरस्कार मिले हैं।

किश्वर नाहिद (जन्म 1940) पाकिस्तान से एक नारीवादी उर्दू कवि है। उसने कविता की कई किताबें लिखी हैं। उसे उर्दू साहित्य में अपने साहित्यिक योगदान के लिए सितारा-ए-इम्तियाज के सहित कई पुरस्कार मिले हैं।

नवीनतम

फूल झरे

फूल झरे जोगिन के द्वार हरी-हरी अँजुरी में भर-भर के प्रीत नई रात करे चाँद की

पाप

पाप करना पाप नहीं पाप की बात करना पाप है पाप करने वाले नहीं डरते पाप

तुमने छोड़ा शहर

तुम ने छोड़ा शहर धूप दुबली हुई पीलिया हो गया है अमलतास को बीच में जो