रेख़्ते में कविता

जैसे कोई हुनरमंद आज भी घोड़े की नाल बनाता दिख जाता है ऊँट की खाल की मशक में जैसे कोई भिश्‍ती आज भी पिलाता है जामा मस्जिद और चांदनी चौक में प्‍यासों

More

हीर सुफ़ियां

हीर सुफ़ियां है एक सुन्दर लड़की हीर सुफ़ियां के हैं उनतीस दांत हीर सुफ़ियां मुस्काती है तो लाल किले की लाल दीवार और सुर्ख़ हो जाती है चांदनी चौक में रहती है

More

संघर्ष साझे नहीं होते

जीवन के संघर्ष साझा नहीं होते साझा होती है सहानुभूतियाँ साझा होती हैं प्रार्थनाएँ साझा होते हैं स्नेह आलिंगन साझा होती है आँसू पोंछने वाली हथेलियाँ साझा होती है हाथों की फँसी

More

पुरखों का कहन

उनकी कविताओं में शब्द नहीं बोलते उनके बनाए चित्रों में रंग नहीं बहकते उनकी कहानियों में तख़्त-ओ-ताज के लिए ख़ून नहीं बहता फिर भी वे कविता करते हैं चित्र बनाते हैं कहानियाँ

More

कथा देश की

ढंगों और दंगों के इस महादेश में ढंग के नाम पर दंगे ही रह गये हैं। और दंगों के नाम पर लाल खून, जो जमने पर काला पड़ जाता है। यह हादसा

More

मीर

मीर पर बातें करो तो वे बातें भी उतनी ही अच्छी लगती हैं जितने मीर और तुम्हारा वह कहना सब दीवानगी की सादगी में दिल-दिल करना दुहराना दिल के बारे में ज़ोर

More

बड़ी हो रही है लड़की

जब वह कुछ कहती है उसकी आवाज़ में एक कोई चीज़ मुझे एकाएक औरत की आवाज़ लगती है जो अपमान बड़े होने पर सहेगी वह बड़ी होगी डरी और दुबली रहेगी और

More

एक नया अनुभव

मैनें चिड़िया से कहा, मैं तुम पर एक कविता लिखना चाहता हूँ। चिड़िया नें मुझ से पूछा, ‘तुम्हारे शब्दों में मेरे परों की रंगीनी है?’ मैंने कहा, ‘नहीं’। ‘तुम्हारे शब्दों में मेरे

More

निरापद कोई नहीं है

ना निरापद कोई नहीं है न तुम, न मैं, न वे न वे, न मैं, न तुम सबके पीछे बंधी है दुम आसक्ति की! आसक्ति के आनन्द का छंद ऐसा ही है

More

उस औरत की बगल में लेटकर

मैंने पहली बार महसूस किया है कि नंगापन अन्धा होने के खिलाफ़ एक सख्त कार्यवाही है उस औरत की बगल में लेटकर मुझे लगा कि नफ़रत और मोमबत्तियाँ जहाँ बेकार साबित हो

More