कविता और लाठी

तुम मुझसे हाले-दिल न पूछो ऐ दोस्त! तुम मुझसे सीधे-सीधे तबियत की बात कहो। और तबियत तो इस समय ये कह रही है कि मौत के मुँह में लाठी ढकेल दूँ, या

More

हँसती रहने देना

जब आवे दिन तब देह बुझे या टूटे इन आँखों को हँसती रहने देना ! हाथों ने बहुत अनर्थ किये पग ठौर-कुठौर चले मन के आगे भी खोटे लक्ष्य रहे वाणी ने

More

सतपुड़ा के घने जंगल

सतपुड़ा के घने जंगल। नींद मे डूबे हुए से ऊँघते अनमने जंगल। झाड ऊँचे और नीचे, चुप खड़े हैं आँख मीचे, घास चुप है, कास चुप है मूक शाल, पलाश चुप है।

More

उतनी दूर मत ब्याहना बाबा!

बाबा! मुझे उतनी दूर मत ब्याहना जहाँ मुझसे मिलने जाने ख़ातिर घर की बकरियाँ बेचनी पड़े तुम्हें मत ब्याहना उस देश में जहाँ आदमी से ज़्यादा ईश्वर बसते हों जंगल नदी पहाड़

More

पिता की तस्वीर

पिता की छोटी-छोटी बहुत-सी तस्वीरें पूरे घर में बिखरी हैं उनकी आँखों में कोई पारदर्शी चीज़ साफ़ चमकती है वह अच्छाई है या साहस तस्वीर में पिता खाँसते नहीं व्याकुल नहीं होते

More

मारे जाएँगे

जो इस पागलपन में शामिल नहीं होंगे, मारे जाएँगे कठघरे में खड़े कर दिये जाएँगे जो विरोध में बोलेंगे जो सच-सच बोलेंगे, मारे जाएँगे बर्दाश्‍त नहीं किया जाएगा कि किसी की कमीज

More

धूमिल की अंतिम कविता

“शब्द किस तरह कविता बनते हैं इसे देखो अक्षरों के बीच गिरे हुए आदमी को पढ़ो क्या तुमने सुना की यह लोहे की आवाज है या मिट्टी में गिरे हुए खून का

More

धीरे धीरे

इसी तरह धीरे-धीरे ख़्वाहिशें ख़त्म होती हैं इसी तरह धीरे-धीरे मरता है आदमी इसी तरह धीरे-धीरे आँखों से सपने सपनों से रंग ख़त्म होते हैं रंगों से ख़त्म होती है दुनिया सफ़ेद

More

इह मेरा गीत

इह मेरा गीत किसे ना गाणा इह मेरा गीत मैं आपे गा के भलके ही मर जाणा इह मेरा गीत किसे ना गाना । इह मेरा गीत धरत तों मैला सूरज जेड

More

एकांत के पथिक

इन दिनों जब समय इतना धीमा है कि चीते की चाल घोंघे की मालूम हो मैं हमारे बीच उन चंद पलों की तेजी को अपनी सबसे ज्यादा तेज गति साबित करना चाहता

More
1 2 3 4 5 10